पंचायत चुनाव 2021: प्रधानी की हर सीट पर पांच से आठ दावेदार, नामांकन पत्र खरीदने के लिए लगी रही लंबी लाइन

1095

सार

तीन दिन में प्रधान के छह हजार से अधिक आवेदन पत्र बिके, तीन व चार अप्रैल को नामांकन

सभी ब्लॉक कार्यालयों पर नामांकन पत्र खरीदने के लिए लगी रही दावेदारों की लंबी लाइन

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ग्राम पंचायत सदस्य के पद को छोड़कर बाकी सभी के लिए हर बार लड़ाई कठिन होती जा रही है। प्रधान के अलावा जिला पंचायत सदस्य और बीडीसी की एक-एक सीट पर कई दावेदारों के बीच जोरदार टक्कर होने जा रही है। जिले की 1294 पंचायतों में से ज्यादातर में प्रधान के हर सीट के लिए पांच से आठ दावेदार चुनाव मैदान में किस्मत आजमाने की तैयारी में है।

तीन दिन में ही प्रधान पद के लिए छह हजार से अधिक नामांकन पत्रों की बिक्री हो चुकी है। करीब पांच हजार नामांकन पत्र बीडीसी के बिक चुके हैं तो जिला पंचायत सदस्य के लिए भी बिकने वाले पर्चों की संख्या करीब एक हजार हो गई है।

कई दावेदार दो से चार सेट में भी पर्चा ले जा रहे हैं। होली के अगले दिन मंगलवार को शहर-देहात की सड़कों से लेकर दफ्तरों तक सन्नाटा पसरा रहा। लेकिन जिला मुख्यालय और ब्लॉक कार्यालयों पर नामांकन पत्रों की बिक्री वाले काउंटरों पर लंबी लाइन लगी रही। जिला पंचायत सदस्य पद के पर्चों की बिक्री के लिए जिला पंचायत कार्यालय में दो काउंटर खोले गए हैं।

इसी तरह प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, बीडीसी के लिए ब्लॉक कार्यालयों से पर्चे बिक रहे हैं। नामांकन के लिए दो ही दिन का मौका मिलने की वजह से हर दावेदार पहले ही अपनी तैयारी पूरी कर लेना चाहता है। यही वजह है कि पर्चों के बिक्री वाले काउंटर खुलने के साथ उसके बंद होने तक वहां, दावेदारों और उनके समर्थकों के आने-जाने का सिलसिला बना हुआ है।

निर्वाचन आयोग की तरफ से जारी कार्यक्रम के मुताबिक तीन और चार अप्रैल को नामांकन होगा। पांच और छह पर्चों की जांच होगी जबकि सात अप्रैल को नाम वापसी और उसी दिन दोपहर तीन बजे के बाद प्रतीक चिन्हों का आवंटन होगा।

Previous articleयूपी: चार चरण में होंगे पंचायत चुनाव, 15 अप्रैल को होगा पहले दौर का मतदान, आचार संहिता लागू
Next articleUP पंचायत चुनाव: वोट देकर जिसे बनाएंगे प्रधान, जानिए उसे कितनी मिलती है सैलरी?