Earthquake in Delhi-NCR: दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके

832
Earthquake in Delhi
Earthquake in Delhi-NCR

Earthquake in Delhi-NCR: दिल्ली-एनसीआर में शनिवार (12 नवंबर) देर शाम एक बार फिर भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। भूकंप की आहट होते ही लोग घरों-दफ्तरों।

Earthquake in Delhi-NCR: दिल्ली-एनसीआर में शनिवार (12 नवंबर) देर शाम एक बार फिर भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। भूकंप की आहट होते ही लोग घरों-दफ्तरों से बाहर दौड़ पड़े। दिल्ली-एनसीआर के लोग भूकंप के पिछले झटकों के डर से अभी उबरे भी नहीं थे कि, आज उन्हें एक बार फिर वैसे हालात का सामना करना पड़ा। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के अलावा NCR क्षेत्र नोएडा और गाजियाबाद में भूकंप के झटके लगे। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.4 मापी गई। भूकंप के ये झटके शाम 7:57 मिनट पर आया था। भूकंप का केंद्र नेपाल में बताया जा रहा है।

लोगों में डर का ये आलम था कि, भूकंप के झटके का अंदाजा लगते ही वो सिर पर पैर रखकर घरों और और दफ्तरों से बाहर की तरफ भागने लगे बता दें, शनिवार को ही ऋषिकेश में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। भूकंप के झटके राजधानी दिल्ली के अलावा सटे इलाकों में भी महसूस किए गए।

Earthquake in Delhi-NCR
Earthquake in Delhi-NCR

6 नवंबर को दिल्ली में आया था तेज भूकंप

इससे पहले, 6 नवंबर की देर रात दिल्ली-एनसीआर के इलाकों में तेज भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। उस दिन भी भूकंप का केंद्र नेपाल ही था। वहां इस हादसे में 6 लोगों की मौत हो गई थी। तब भूकंप की तीव्रता 6.3 मापी गई थी।

10 नवंबर को अरुणाचल में भूकंप

इस हफ्ते देश के कई हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। दो दिन पहले यानी 10 नवंबर की सुबह अरुणाचल प्रदेश में आधे घंटे के अंतराल पर दो बार भूकंप आया था। दोनों ही बार भूकंप का केंद्र अरुणाचल का सियांग जिला था। पहला भूकंप सुबह 10.31 बजे और दूसरा भूकंप 10.59 बजे आया था। दोनों ही बार भूकंप का केंद्र धरती से 10 किमी नीचे था।

अंडमान-निकोबार में आया था भूकंप

अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में, लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किए जब 10 नवंबर की सुबह सभी लोग सो रहे थे। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, भूकंप पोर्ट ब्लेयर से लगभग 253 किमी दक्षिण-पूर्व में आया था। तड़के करीब 2:29 बजे 4.3 तीव्रता का भूकंप आया। भूकंप का केंद्र जमीन से 10 किमी नीचे था। हालांकि इन झटकों से किसी तरह के नुकसान की खबर नहीं है।

Previous articlePKL : तेलुगू टाइटन्स के साथ यह सब गलत हुआ है
Next articleकिसानों के लिए अच्छी खबर! सरकार जलवायु संकट के कारण प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में संशोधन करेगी